28 नवम्बर से भोजपाल महोत्सव मेले का भव्य आगाज

28 नवम्बर से भोजपाल महोत्सव मेले का भव्य आगाज
भोपाल. राजा भोज और रानी कमलापति की नगरी भोपाल के भेल दशहरा मैदान पर 28 नवम्बर से भोजपाल महोत्सव मेले का भव्य आगाज होगा। इस बार मेला शहरवासियों को नए कलेवर में देखने को मिलेगा। इसके लिए मेला समिति द्वारा लगातार तैयारियां की जा रही हैं। मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ बच्चों, बुजुर्गों, महिलाओं और युवाओं के लिए विभिन्न प्रकार के आयोजन किए जाएंगे। 12 एकड़ क्षेत्र में फैले इस मेले में विभिन्न प्रकार की करीब 400 दुकानें संचालित होंगी। मेले में मुख्य आकर्षण 220 फीट का मुख्य प्रवेश द्वार के साथ ही तीन अन्य प्रवेश द्वार होंगे। देश भर के विभिन्न ज्योर्तिलिंगों से सुसज्जित सेल्फी जोन, भव्य सांस्कृतिक मंच के साथ ही विभिन्न प्रदेशों के झूले बच्चों और बड़ों के लिए रोमांचक होंगे। 
भोजपाल महोत्सव मेला समिति के अध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि विगत सात वर्षों से मेले का सफल आयोजन किया जा रहा है। 28 नवम्बर से शुरू होने वाले इस मेले में राजधानी भोपाल सहित आसपास क्षेत्रों से बड़ी संख्या में लोग परिवार सहित पहुंचेंगे। महामंत्री हरीश कुमार राम ने बताया कि मेले में 400 से ज्यादा छोटी-बड़ी दुकानें होंगी। मेले में रोजाना विभिन्न प्रदेशों के कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां दी जाएंगी। 
ग्रेट जैमिनी सर्कस में अफ्रीकन कलाकार देंगे प्रस्तुति
झीलों की नगरी भोपाल में पहली बार ग्रेट जैमिनी सर्कस के कलाकार अपनी हैरत अंगेज कलाओं का प्रदर्शन करेंगे। सर्कस में अफ्रीकन कलाकार अपनी-कलाओं से लोगों का मनोरंजन कराएंगे। साथ ही प्रदेश के विभिन्न शहरों से चुनिंदा 10 बैंड होंगे, जो अलग-अलग प्रस्तुतियां देंगे। इसके साथ डबल डेकर मौत का कुआं में करतब दिखाने वाले कलाकार लोगों में रोमांच भरेंगे।
मेले में दिखेगा जीवंत डायनासोर
भोजपाल महोत्सव मेले में इस बार करोड़ों वर्ष पहले विलुप्त हो चुके डायनासोर को जीवंत रूप में दिखाया जाएगा। यह बाड़े में चलने फिरने के साथ ही अन्य गतिविधियां भी करेगा। इसके माध्यम से बच्चों को विलुप्त हो चुके डायानासोर के बारे मेे जानकारी देने और उनका नॉलेज बढ़ाने के लिए पहली बार राजधानी में इसे लाया जा रहा है। 
सांस्कृतिक आयोजन में बॉलीवुड कलाकार देंगे प्रस्तुति
मेले में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक आयोजनों में बॉलीवुड के जाने माने कलाकारों द्वारा कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी जाएगी। दस राज्यों के कलाकार अपने-अपने राज्यों की कला और सांस्कृतियों से लोगों को रूबरू कराएंगे, तो कवि सम्मेलन में देश के जाने माने कवि लोगों को गुदगुदाएंगे। साथ ही सूफी नाइट का आयोजन किया जाएगा। सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में प्रदेश के साथ ही स्थानीय कलाकारों को मंच दिया जाएगा।
विभिन्न प्रदेशों के झूले होंगे मुख्य आकर्षण 
मेले का मुख्य आकर्षण बच्चों और बड़ों के लिए अत्याधुनिक रोमांचक झूले होंगे। मेले में देश का सबसे बड़ा झूला रोलर कोस्टर, टॉवर, रेंजर, ऑक्टोपस, बे्रक डांस, एरोप्लेन, मिनी टे्रन, पिग्गी ट्रेन, कटर पिलर, फ्रीज व्हील, बड़ी नाव, ड्रेगन, टोरा-टोरा, चॉद-तारा, बाउंसी, चाईना बाउंसी, वॉटर वोट, जम्पिंग, चकरी आकर्षक झूला स्विंग ईट, मौत का कुंआ, स्टाइकिंग कार, घोस्ट हाउस और रंग-विरंगे कई झूले जो बच्चों को लुभाएंगे। स्पीड की दुनिया में सबसे तेज भागता झूला ट्वीस्टर व्हील सहित कई प्रकार के झूले मेले में आकर्षक का केंद्र रहेंगे।

इसे भी देखें

15 महीनों तक रामलला को वेद मंत्र सुनाएंगे महाराष्ट्र के वैदिक विद्वान

- देश-दुनिया तथा खेत-खलिहान, गांव और किसान के ताजा समाचार पढने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म गूगल न्यूजगूगल न्यूज, फेसबुक, फेसबुक 1, फेसबुक 2,  टेलीग्राम,  टेलीग्राम 1, लिंकडिन, लिंकडिन 1, लिंकडिन 2, टवीटर, टवीटर 1, इंस्टाग्राम, इंस्टाग्राम 1कू ऐप से जुडें- और पाएं हर पल की अपडेट