राज्यपाल के पास अटका आरक्षण विधेयक, मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया चिंताजनक 

राज्यपाल के पास अटका आरक्षण विधेयक, मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया चिंताजनक 

रायपुर। आरक्षण संशोधन विधेयक पर मंगलवार को भी राज्यपाल का हस्ताक्षर नहीं हो पाया। राज्यपाल अनुसुईया उइके के पास विधि सलाहकार की रिपोर्ट पहुंच गई है। राजभवन के उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो मंगलवार को राज्यपाल ने सचिव अमृत खलको, विधि सलाहकार अधिकारी और विधि विभाग के अधिकारियों के साथ प्रविधानों पर चर्चा की। उम्मीद की जा रही है कि अभिमत मिलने के बाद ही राज्यपाल का हस्ताक्षर होगा। उधर, राज्यपाल का हस्ताक्षर नहीं होने पर राज्य सरकार के प्रवक्ता और मंत्री रविंद्र चौबे ने सवाल किया है।

छत्तीसगढ़ के लाखों लोगों को आरक्षण का इंतजार

रविंद्र चौबे ने मीडिया से चर्चा में कहा कि तीन दिनों तक कानूनी सलाह के लिए विधेयक का रूका रहना चिंताजनक है। शुक्रवार को राज्यपाल ने एक दिन में हस्ताक्षर करने की बात कही थी। उम्मीद है आज हस्ताक्षर कर देंगी। क्योंकि छत्तीसगढ़ के लाखों लोगों को आरक्षण का इंतजार है। यह उनके रोजगार और भविष्य का सवाल है।

पांच मंत्रियों ने राजभवन जाकर राज्यपाल उइके को सौंपा था

शुक्रवार को विधानसभा से पारित विधेयक को उसी रात पांच मंत्रियों ने राजभवन जाकर राज्यपाल उइके को सौंपा था। तब राज्यपाल ने कहा था कि उनके विधि अधिकारी अवकाश पर हैं। सोमवार को कामकाज शुरू होने पर हस्ताक्षर कर देंगी। चौबे से जब यह सवाल किया गया कि क्या किसी तरह का राज्यपाल पर दबाव है, तो उन्होंने कहा कि मैं यह आज नहीं कह सकता। लेकिन सिर्फ विधि विशेष्ज्ञों की राय लेने में तीन दिन का समय लगे, इससे हम लोग चिंतित हैं।

इसे भी देखें

15 महीनों तक रामलला को वेद मंत्र सुनाएंगे महाराष्ट्र के वैदिक विद्वान

- देश-दुनिया तथा खेत-खलिहान, गांव और किसान के ताजा समाचार पढने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म गूगल न्यूजगूगल न्यूज, फेसबुक, फेसबुक 1, फेसबुक 2,  टेलीग्राम,  टेलीग्राम 1, लिंकडिन, लिंकडिन 1, लिंकडिन 2, टवीटर, टवीटर 1, इंस्टाग्राम, इंस्टाग्राम 1कू ऐप से जुडें- और पाएं हर पल की अपडेट